इंसान रहने के लिए छोटे से घर को पर्याप्त समझता है. घर में रहने के लिए अगर चार कमरे भी हों तो पर्याप्त हैं. रहने के लिए एक छोटा सा घर नज़र में आया. वैसे इस घर में ज़्यादा कुछ नहीं सिर्फ चार कमरे हैं. इसके अलावा घर में और कुछ भी नहीं है. लेकिन इस घर की कीमत सुनकर आपके कान खड़े हो जायेंगे. इस घर की कीमत उम्मीद से कहीं ज़्यादा 960 करोड़ रुपये है.

ऑडियंस रिएक्शन के लिए जायरा और तीर्थ ने काटे सिनेमाघर के चक्कर

हॉन्गकॉन्ग में घर की कीमत 960 करोड़ रुपये

घर की कीमत 960 करोड़ रुपये


हमसे फेसबुक पर भी जुड़ें!


हो सकता है आपको हमारी बात का यकीन न हो, लेकिन भैया सच तो सच है. दरअसल ये घर हॉन्गकॉन्ग के पीक जिले में है. इस घर के में डेवलपर का कहना है कि इस घर के लिए किया गया इतनी राशि का भुगतान साल का सबसे बड़ा भुगतान है.

हॉन्गकॉन्ग की मुद्रा के हिसाब से इसकी कीमत 1,26,816 करोड़ डॉलर प्रति स्क्वायर फुट है. इसकी कीमत के बारे में व्हीलॉक प्रॉपर्टीज के स्पोक्स पर्सन ने बताया. ये घर 9000 स्क्वायर फुट में बनाया गया है, जिसमें स्वीमिंग पूल, शानदार गार्डन, बेसमेंट वाला कार पार्क है. ये घर हॉन्गकॉन्ग के उस हिस्से में आता है जो चीन के नियंत्रण में है. यहाँ हर व्यक्ति के लिए एवरेज लिविंग स्पेस 150 स्क्वायर फुट यानी 14 स्क्वायर मीटर है.

व्हीलॉक एंड कंपनी हॉन्गकॉन्ग की बड़ी डेवलपर कंपनी है. आंकड़े बताते हैं कि अपार्टमेन्ट के मामले में हॉन्गकॉन्ग दुनिया केबसे महंगे देशों में से एक है जहाँ स्किल्ड वर्कर 20 सालों से काम कर रहे हैं. दुनिया के 20 शहरों में शहर के बीच में एक फ़्लैट बनाने में 650 स्क्वायर फुट जगह का इस्तेमाल किया जाता रहा.

हांगकांग के अधिकारियों ने शहर की संपत्ति की कीमतों को कम करने के लिए उपायों को लागू करने की कोशिश की है, लेकिन इस सब पर मुख्य कार्यकारी कैरी लाम का कहना है कि इसके लिए सरकार के पास कोई ‘मैजिक वॉंड्स’ नहीं है.

ये जगह पूर्व ब्रिटिश उपनिवेश विश्व के धनी शहरों में से एक है, जहां हॉन्गकॉन्ग की मुद्रा के हिसाब से 936 बिलियन से अधिक का राजकोषीय भंडार है लेकिन इसके दसवें से भी कम हिस्से को आवास रहने के लिए छोड़ा गया है.

यहाँ कई ऐसे मध्यमवर्गीय परिवार हैं जो संपत्ति खरीदने में असमर्थ हैं. इस वजह से यहाँ असमानताएं बढ़ती गईं.

इससे भी बहुत ज्यादा सख्त गरीबों की दुर्दशा है, जिन्हें ‘ताबूतों के घरों’ में रहने के लिए मजबूर किया गया और परिवारों को रहने के लिए 75 वर्ग फुट से छोटे फ्लैट दिए गए.

हांगकांग में घर की कीमतें 2003 के बाद से करीब 400 प्रतिशत बढ़ गई हैं, जबकि औसत मासिक घरेलू आय में सिर्फ 61 प्रतिशत की बढ़ोतरी हुई है.

जुलाई में लाम ने अपना पदभार ग्रहण किया, उसके बाद से ही उनका फोकस हाई कीमतों वाली संपत्तियों को कम कीमत में उपलब्ध करवाने पर रहा है ताकि मिडिल क्लास परिवारों को रहने के लिए आसानी से घर उपलब्ध करवाया जा सके. इसीलिए मध्यवर्गीय परिवारों की सहायता के लिए उन्होंने ‘स्टार्टर होम्स’ योजना की घोषणा की.

जे पसंद आया?
तो हम भी पसंद आएंगे, ठोको लाइक

Follow on Twitter!
loading...